शोध प्रारूप तथ्य संकलन की विधियाँ (भाग – 2)

शोध प्रारूप तथ्य संकलन की विधियाँ (भाग – 2)

  1. आंकड़ों को इकट्ठा करने की किस विधि के लिए शिक्षित उत्तरदाताओं का होना आवश्यक है – प्रश्नावली
  2. उस तकनीकको क्या कहते हैं, जिसमें शोधकर्ता या परिगणक उत्तर देने वालों के पास जाकर सूचना पत्रक को भरता है? – प्रश्नावली
  3. प्रश्नावली द्वारा किस प्रकार के तथ्यों का संग्रह किया जा सकता है – प्राथमिक तथ्य
    • प्रश्नावली के प्रकार
    • मिश्रित प्रश्नावली
    • बंद प्रश्नावली
    • खुली प्रश्नावली
    • चित्रमय प्रश्नावली
  4. प्रश्न वाली भरने का दायित्व है – सूचक का
  5. साक्षात्कार का आशय है – विचारों का आदान-प्रदान
    • एक निश्चित उद्देश्यों की पूर्ति के लिए आयोजित विचारों का आदान-प्रदान ही साक्षात्कार है।

शोध प्रारूप तथ्य संकलन की विधियाँ (भाग – 1)

  1. आरक्षित लोगों के अध्ययन में कौन सी प्रविधि प्रयुक्त की जा सकती है – साक्षात्कार, अनुसूची, अवलोकन
  2. संरचित साक्षात्कारकिसप्रकार के अध्ययनों में प्रयुक्त किया जाता है – रिमाणात्मक अनुसंधान
  3. आपको अगर किसी दूरस्थ क्षेत्र के किसी जनजातीय समूह के संबंध में संकलन करना है तो किस विधि का प्रयोग करेंगे – साक्षात्कार
  4. साक्षात्कार का महत्व – सभी स्तर के लोगों को सूचना का संकलन
    • अमृत तथा अदृश्य घटनाओं का अध्ययन
    • मनोवैज्ञानिक अध्ययन
    • पिछली घटनाओं का अध्ययन
  5. साक्षात्कार की प्रक्रिया में शामिल होती है – सहानुभूति पूर्वक सूचना
    • साक्षात्कार की प्रक्रिया
    • परिचय
    • साक्षात्कार का उद्देश्य
    • सहयोग की प्रार्थना
    • साक्षात्कार का आरंभ
    • कुछ उत्साहवर्धक वाक्यों को दोहराना
    • सहानुभूति पूर्वक सुनना
    • क्रोध दिलाने वाले क्षणों से बचाव
    • स्मरण करना
    • समयानुसार प्रश्न
    • बातचीत में प्रवाह
    • आज्ञा देने एवं मना करने की पद्धति से बचाव
    • दोहरे प्रश्न से बचाव
  6. शोध कार्य का अंतिम चरण क्या है – प्रतिवेदन
  7. निर्देशन की रीति है
    • मिश्रित निदर्शन, -सविचार निदर्शन,-यादृच्छिक निदर्शन
    • यदि शोधकर्ता समूह के सदस्यों में संपर्क स्थापित कर अध्ययन करता है तो वह संगणना (Census Method) विधिकहलाती है।
    • यदि शोधकर्ताकुछ सदस्यों को प्रतिनिधि के रूप में चुनकर उनसे तत्वों का संकलन का अध्ययन करता है तो वह निदर्शन विधि (Sampling Method) कहा जाता है।
  8. निदर्शन का मुख्य आधार है – एकरूपता
  9. भारत में सामाजिक सर्वेक्षण से संबंधित संस्था है
    • Indian static Institute
    • National counselling of applied economic research
    • National Sample survey
  10. माप का अर्थ है – संख्यात्मक अभिव्यक्ति
    • वस्तुओं एवं घटनाओं को तर्कसंगत रूप में माने नियमों के अनुसार संख्या निरूपण को मापकहा जाता है।
    • माप का अर्थ है कि संबंधों की संख्यात्मक अभिव्यक्ति तथा समूहों के विभिन्न मानों के बीच तुलनात्मक संबंध स्थापित करने में सक्षमहोता है।

विभाग की परिभाषा

  1. अंकित मापनी का तात्पर्य है – दो या अधिक श्रेणियों में विभेद के लिए गुणात्मक
  2. यदि किसी कॉलेज में 3000 विद्यार्थियों के मासिकव्यय के बारे में अध्ययन करना है, तो कॉलेज के प्रत्येक विद्यार्थी का अध्ययन ना करके यदि उनमें से कुछ 200 विद्यार्थियों को छांट कर सूचना एकत्रित करते हैं तो कौन सी विधि कहलाएगी? – निदर्शन विधि
  3. “एक मकान का निर्माण पत्थरों से होता है उसी भांति विज्ञान का निर्माण  सिद्धांतों से होता है।” – हेनरी पाईनकर
  4. तथ्यों को विश्लेषित करने की प्रक्रिया को कहते हैं – संपादन
  5. SPSS क्या है – कंप्यूटर सॉफ्टवेयर
    • SPSS (Statistical  package for social sciences)एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है, जिसका प्रयोग शोधों के लिए किया जाता है।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *