जिला प्रशासन अवधारणा तथा उद्भव (भाग – 5)

  1. स्वायत जिला परिषद प्रशासन किस राज्य में लागू है-
    • असम, -मेघालय,-त्रिपुरा
    • स्वायत जिला परिषद जनजातीय क्षेत्र में प्रशासन के लिए गठित की गई है।
    • संविधान के भाग 10 तथा अनुच्छेद 244 के कुछ ऐसे क्षेत्रों में जिन्हें अनुसूचित क्षेत्र और जनजातीय क्षेत्र नामित किया गया है, प्रशासन की विशेष व्यवस्था की परिकल्पना की गई है।
    • भारत में किसी भी क्षेत्र को अनुसूचित क्षेत्र घोषित करने का अधिकार राष्ट्रपति के पास होता है।
    • संविधान की पांचवी अनुसूची में राज्यों के अनुसूचित क्षेत्र एवं अनुसूचित जनजातियों के प्रशासन व नियंत्रण के बारे में चर्चा की गई है।
  2. असम राज्य में कौन-से जनजातीय क्षेत्र स्वायत जिला परिषद में शामिल है।
    • उत्तरी कछार पहाड़ी जिला
    • कार्बी आंगतांग जिला
    • बोडोलैंड प्रदेश क्षेत्र जिला
  3. सही कथन
    • संविधान की छठी अनुसूची में चार उत्तर-पूर्वी राज्य असम, मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा के जनजातीय क्षेत्र के विशेष प्रावधानों का उल्लेख किया गया है।
    • प्रत्येक 87 जिले के लिए एक जिला परिषद होगी, जो 30 सदस्यों से मिलकर बनेगी।
    • इस 30 सदस्यों में 4 सदस्य को राज्यपाल नामित करेंगे और शेष 26 सदस्य व्यस्क मताधिकार के आधार पर निर्वाचित किए जाएंगे।
  4. सही कथन
    • जिला व प्रादेशिक परिषद को अपने अधीन क्षेत्रों के लिए विधि बनाने की शक्ति है।
    • स्वायत जिला परिषद के निर्वाचित सदस्यों की संख्या 26 है।
    • स्वायत जिला परिषद के निर्वाचित सदस्यों का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है।
    • राज्यपाल द्वारा मनोनीत सदस्य का कार्यकाल निर्धारित नहीं है वे राज्यपाल के प्रसादपर्यन्त पद पर रहेंगे।
  5. सुमेलित
    • फिरका          –                 तमिलनाडु
    • परगना          –                  उत्तर प्रदेश
    • प्रांत              –                  पंजाब
    • सर्किल          –                 महाराष्ट्र

जिला प्रशासन अवधारणा तथा उद्भव (भाग – 4)

  1. सही कथन
    • 1772 ई. में वॉरेन हेस्टिंग्समैं भारत में पहली बार जिला कलेक्टर के पद का सृजन किया।
    • 1792 ई. में जिला कलेक्टर से न्यायिक शक्तियों को पृथक कर जिला न्यायाधीश के पद का सृजन किया गया।
    • मैकाले रिपोर्ट के आधार पर भारतीय सिविल सेवा (Indian Civil Service, ICS) के द्वारा कलेक्टर की नियुक्ति की जाने लगी।
  2. सुमेलित
    • उप संभाग               –                 संभागीय अधिकारी
    • ताल्लुक                  –                 तहसीलदार
    • परगना                    –                 कानूनगो
    • ग्राम                        –                 पटवारी
  3. सही कथन
    • अहमदनगर के तत्कालीन कलेक्टर ‘श्री अनिल कुमार लखीना’ ने अपने जिला कार्यालय में वर्ष 1984 में एक सुधार योजना लागू करके पूरे देश का ध्यान आकर्षित किया।
    • इसके तहत कार्यालय प्रक्रिया और अधिक जटिल कर दी गई।
    • इस सुधार का मुख्य ध्येय जिला प्रशासन की गोपनीयता को बनाए रखना था।
  4. सुमेलित
    • मुगलकाल                         –                 सरकार
    • ईस्ट इंडिया कंपनी              –                 डिस्ट्रिक्ट
    • वॉरेन हेस्टिंग्स                    –                 कलेक्टर
    • स्वतंत्रता के बाद                 –                  जिला
  5. सही कथन
    • समेकित ग्रामीण विकास कार्यक्रम 2 अक्टूबर 1980 को राज्यों के प्रखंडों में गरीबी उन्मूलन के व्यापक उद्देश्य से शुरू किया गया।
    • समेकित ग्रामीण विकास कार्यक्रम एक प्रमुख ऋण आधारित स्वरोजगार योजना।
    • समेकित ग्रामीण विकास कार्यक्रम (IRDP) के महिला पहलुओं तथा ग्रामीण महिला एवं शिशु विभाग (Department of Women and children in Rural Areas, DWCRA) कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए सहायक परियोजना पदाधिकारी (महिला) के पद की स्थापना की गई है।

स्टाफ एजेंसियों के कार्य

  1. सुमेलित
    • असम                     –                  बोडोलैंडप्रदेश क्षेत्र जिला
    • मेघालय                  –                  जयन्तियां पहाड़ी जिला
    • त्रिपुरा                     –                  त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्रजिला
    • मिजोरम                  –                  चकमा जिला
  2. सही कथन
    • जिला एवं प्रादेशिक परिषद को भू-स्वराज का आकलन एवं संग्रहण करने का अधिकार है।
    • संसदीय राज्य विधानमंडल का नियम स्वशासी जिले या स्वशासी प्रदेश में लागू नहीं होता।
  1. कथन (A) जिला प्रशासन और राज्य मुख्यालय के बीच संपर्क स्थापित पद के लिए 1829 में संभागीय आयुक्त का पद सृजन किया गया था। कारण (R) यह वर्तमान समय में भी कार्यरत है।
    • A और R दोनो सही हैपरन्तु R, A की सही व्याख्या नही है।
  2. कथन (A) जिला स्तर पर पुलिस प्रशासन संबंधी कार्यों के लिए जिला अधीक्षक का पद 1834 में सृजित किया। कारण (R) जिला अधीक्षक पूर्व में जिला अधिकारी का ही रूप है।
    • A और R दोनो सही हैपरन्तु R, A की सही व्याख्या नही है।
  3. कथन (A) भारत मेंप्रशासन की क्षेत्रीय इकाई के रूप में जिले का लंबा इतिहास है, जो मौर्यकाल से शुरू होता है। कारण (R) मौर्यकाल में जिले को सरकार कहा जाता था।
    • A सही है, किन्तु R गलत है
  4. कथन (A) जिला प्रशासन को ‘एक राज्य में एक छोटा राज्य’ कहा जाता है। कारण (R) राज्य प्रशासन द्वारा जो कानून बनाए जाते हैं और जिस का निर्धारण किया जाता है उसको व्यवहारिक रुप देना जिला प्रशासन का काम है।
    • A और R दोनो सही हैपरन्तु R, A की सही व्याख्या नही है।
  5. कथन (A) जिलाधीश के कार्यो और कर्तव्यों की व्याख्या सीधे तौर पर नहीं की जा सकती है। कारण (R) वह जिला प्रशासन का प्रमुख और जिले में राज्य सरकार का प्रतिनिधि होता है।
    • A और R दोनों है तथा R, Aकी सही व्याख्या है।
  6. कथन (A) जिलाधीश प्रशासन के राजस्व और सामान्य प्रशासन विभाग तथा पंजीकरण विभाग सीधे जिलाधीश के प्रभार में होते हैं। कारण (R) जिला प्रशासन के अन्य सभी विभागों पर भी उसका नियंत्रण और प्रभाव होता है।
    • A और R दोनो सही हैपरन्तु R, A की सही व्याख्या नही है।
  7. कथन (A) कलेक्टर को जिले की विभिन्न एजेंसियों द्वारा होने वालीनिविष्टियों की व्याख्या को सुनिश्चित करना होता है। कारण (R) पंचायती राज्य के निकाय विकास के लिए आवश्यक सभी निविष्टियों की व्याख्या आवश्यक करते हैं।
    • A सही है किन्तु, R गलत है।
  8. कथन (A) स्वतंत्रता के बाद जिलाधिकारी के अधिकार एवं शक्तियों में वृद्धि हुई है। कारण (R) लोकतांत्रिक व्यवस्था स्थापित होने और जनप्रतिनिधियों के नियंत्रण बढ़ने के कारण इसके कार्यों में अंकुश लगाए गए।
    • A गलत है, किन्तु R सही है

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *