आहार बदलने से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है

आहार बदलने से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, संतुलित आहार के बाद, अचानक समृद्ध आहार (अतिरिक्त प्रोटीन और गोभी वाला आहार) स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इससे जीवन प्रत्याशा भी कम हो सकती है। यूनाइटेड किंगडम के शेफ़ील्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के अनुसार, फल मक्खियों पर यह शोध लोगों की बढ़ती उम्र की प्रवृत्ति को रोकने के लिए एक नई दृष्टि प्रदान करता है। साइंस एडवांसेज नाम के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि शोधकर्ताओं ने कुछ दिनों के लिए संतुलित आहार पर फल खाने वाला आहार (ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर) खिलाया। इसके बाद, उन्होंने एक समृद्ध आहार प्राप्त करना शुरू किया। वैज्ञानिकों ने नोट किया कि इससे मक्खियों का जीवनकाल कम हो गया। उन्होंने मक्खियों की तुलना में बहुत कम अंडे दिए, जिन्होंने अपने पूरे जीवन में समृद्ध आहार का सेवन किया है।

जीवन क्या है?

नया आई स्कैनर बच्चों में ऑटिज्म का पता लगाने में मदद करेगा

शोधकर्ताओं ने एक नया आई-स्कैन विकसित किया है, जिसके माध्यम से बच्चों में ऑटिज्म की पहचान करने में मदद मिल सकती है। ऑटिज्म एक मानसिक बीमारी है। जो बच्चे इस बीमारी से पीड़ित हैं वे अपेक्षाकृत धीरे-धीरे विकसित होते हैं। ‘ऑटिज्म एंड डेवलपमेंट डिसऑर्डर’ जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, आई-स्कैन एक पोर्टेबल डिवाइस है जिसका इस्तेमाल करने पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। इस उपकरण के माध्यम से रेटिना में सूक्ष्म विद्युत सिग्नल पैटर्न का पता लगाया जाता है। विशेष बात यह है कि वे बच्चों के आत्मकेंद्रित के स्पेक्ट्रम में भिन्न होते हैं। दरअसल, रेटिना मस्तिष्क का एक विस्तार है, जो तंत्रिका ऊतक से बना होता है और ऑप्टिक तंत्रिका द्वारा मस्तिष्क से जुड़ा होता है। इसलिए, यह आत्मकेंद्रित का पता लगाने के लिए एक आदर्श स्थान है। ऑस्ट्रेलिया में यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लिंडर्स के वैज्ञानिकों सहित शोधकर्ताओं की एक टीम ने पांच और 21 साल की उम्र के बीच 180 लोगों पर स्कैन का परीक्षण किया। उन्होंने इसे बच्चों में आत्मकेंद्रित का पता लगाने के लिए उपयोगी पाया।

परम सुख